19 मार्च 2013

सच का इंद्रधनुष...!






ज़िन्दगी के कुछ फ़लसफ़े

जो सही हैं

सबकी नज़र में

हम क्यों नहीं देख पाते उन्हें

एक नई नज़र से.....?


सिर्फ़ इसलिए

कि मिल गई है उन्हें सहमति

पूर्ण बहुमत की

जो शायद जरूरी है

सुदृढ़ता से खड़े रहने के लिए

इस समाज में...


या शायद 

हिम्मत नहीं है हममें

सच को सामने लाने की..

वो सच

जो ढक दिया गया है

झूठ के काले नकाबों से 

और चढ़ा दिया गया है सूली

वक्त की सलीब पर.....


वक्त की स्याही

झूठ के स्याह रंग को

और गाढ़ा कर देती है,

जिस पर सच का

कोई रंग नहीं खिल पाता.....


हिम्मत दिखानी होगी..

काली अँधियारी रात्रि को,

श्वेत प्रकाश से

धवल बनाने की.....


सच का दीप जलाना होगा

रंगों को जगमगाना होगा

कभी किसी को तो आगे आना होगा.....!!



               ~~~~~~~~~~~~

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 20/03/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया....
    बेहद सशक्त और बेबाक अभिव्यक्ति...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. वक्त की स्याही
    झूठ के स्याह रंग को
    और गाढ़ा कर देती है,
    जिस पर सच का
    कोई रंग नहीं खिल पाता.....
    बहुत सही कहा आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सही कहा है आपने ..बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति . आभार हाय रे .!..मोदी का दिमाग ................... .महिलाओं के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच का दीप जलाना होगा

    रंगों को जगमगाना होगा

    कभी किसी को तो आगे आना होगा.....!!
    बहुत खुबसूरत प्रस्तुति
    latest postअनुभूति : सद्वुद्धि और सद्भावना का प्रसार
    latest postऋण उतार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आह्वाहन करती रचना, शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं