23 अक्तूबर 2012

मन की सिहरन...




                                                                                 


कुछ बूँदें बारिश की

बरस रही हैं आँगन में

मन में भी कुछ

गीलापन सा महसूस हो रहा है...


कुछ भीग गया है शायद

यादों के कुछ कपडे+ हैं

तह करके रखे थे

दिल के किसी कोने में...


अब इन्तज़ार ही कर सकती हूँ

कहीं से आये एक लिफ़ाफ़े का

जो होगा मेरे नाम का

पर पता नहीं होगा उस पर...


शायद कुछ धूप मिल जाये उसमें

लफ़्ज़ों में लिपटी हुई

जो हौले से सहला जाये

मन के गीलेपन को...


    x  x  x 

10 टिप्‍पणियां:

  1. शायद कुछ धूप मिल जाये उसमें
    लफ़्ज़ों में लिपटी हुई
    जो हौले से सहला जाये
    मन के गीलेपन को...
    वाह ... बहुत खूब कहा ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब इन्तज़ार ही कर सकती हूँ

    कहीं से आये एक लिफ़ाफ़े का

    जो होगा मेरे नाम का

    पर पता नहीं होगा उस पर... कुछ भीगे एहसास तो होंगे

    उत्तर देंहटाएं
  3. कलकत्ता की दुर्गा पूजा - ब्लॉग बुलेटिन पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सब को दुर्गा पूजा की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें ! आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आह...
    इन्तेज़ार है एक कतरा धूप का.....

    बहुत सुन्दर!!

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. अंतर मन से अनुभूत सहज उद्भूत रचना .

    दिल के अहसासों का.....

    23 अक्तूबर 2012

    मन की सिहरन...







    कुछ बूँदें बारिश की

    बरस रही हैं आँगन में

    मन में भी कुछ

    गीलापन सा महसूस हो रहा है...


    कुछ भीग गया है शायद

    यादों के कुछ कपडे+ हैं

    तह करके रखे थे

    दिल के किसी कोने में...


    अब इन्तज़ार ही कर सकती हूँ

    कहीं से आये एक लिफ़ाफ़े का

    जो होगा मेरे नाम का

    पर पता नहीं होगा उस पर...


    शायद कुछ धूप मिल जाये उसमें

    लफ़्ज़ों में लिपटी हुई

    जो हौले से सहला जाये

    मन के गीलेपन को...

    उत्तर देंहटाएं
  6. शायद कुछ धूप मिल जाये उसमें

    लफ़्ज़ों में लिपटी हुई

    जो हौले से सहला जाये

    मन के गीलेपन को...
    ................शायद

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं