2 जुलाई 2013

कवि की पीड़ा..!






अचानक एक दिन
लिखते-२
ठिठक गई मेरी कलम
दर्द..........!
किसका है ये दर्द ?
कहीं पूँछने ना लगें लोग...

क्या कवि सिर्फ़ अपनी ही पीड़ा लिखता है ?
क्यों नहीं समझते लोग
कि कवि के अन्दर
एक दूसरा समाज साँस लेता है
जिसके दर्द उसके होते हैं...
अभिव्यक्ति भले ही कवि की हो
परन्तु भोगा तो किसी और ने होता है।
कवि संवेदनशील होता है
जो एहसास कराता है, इस बाहरी समाज को
उस आंतरिक पीड़ा से
जिसकी ओर से इसने, आँखें बन्द कर रखी हैं
और पहन रखा है मुखौटा
प्रगतिशील होने का !!

                      x     x     x     x

18 टिप्‍पणियां:


  1. सुंदर प्रस्तुति...
    मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी का लिंक 05-07-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल पर भी है...
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाएं तथा इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और नयी पुरानी हलचल को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी हलचल में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान और रचनाकारोम का मनोबल बढ़ाएगी...
    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।



    जय हिंद जय भारत...


    मन का मंथन... मेरे विचारों कादर्पण...

    उत्तर देंहटाएं
  2. एकदम सत्य कथन !
    कुंवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन मिलिये ओम बना और उनकी बुलेट से - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. पढ़ कर मुंह से वाह वाह ही निकलता हैं
    सच में बेहद सार्थक रचना है।
    बहुत अच्छी लगी

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक दूसरा समाज साँस लेता है
    जिसके दर्द उसके होते हैं...
    अभिव्यक्ति भले ही कवि की हो
    परन्तु भोगा तो किसी और ने होता है।
    very nice .

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने बिलकुल सही कहा,लोग यही समझते है,

    यहाँ भी पधारे ,http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_1.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. सर्द तो हर किसी को होता है ... कवि उस दर्द को कह देता है ... शब्दों में उतर देता है बस ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 04/07/2013 के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. अति सुंदर ! कवि तो हर दिल के दर्द को स्वयं अनुभव करने की क्षमता रखता है और उसे सार्थक तरीके से संप्रेषित भी करना जानता है तभी तो एक व्यापक प्रतिक्रिया उदित होती है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. कवि हर दिल का दर्द लिखता है !

    उत्तर देंहटाएं
  11. शुभ प्रभात
    दर्द
    दर्द
    और सिर्फ
    दर्द

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच कवि की पीड़ा सिर्फ अपनी नहीं होती सबकी होती है ....बहुत बढ़िया कृति

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (06-07-2013) को <a href="http://charchamanch.blogspot.in/ चर्चा मंच <a href=" पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच को बयान करती रचना...

    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं