1 अगस्त 2012

मेरा वज़ूद...!



सोच के परदे बन्द करके
अँधेरे कमरे के
इक कोने में
बैठा मेरा वज़ूद...
कभी गुनगुनाता
कभी सिसकता
कभी अपने होने पे
प्रश्न-चिन्ह लगाता ?
कभी इतराता, कभी इठलाता
कभी ताकता सूनी छत की ओर
कभी सिमट जाता अपने-आप में
ढूँढने लगता अन्दर ही
कि कहीं मिल जाये
अपने-आप को ढूँढता
अपने-आप में खोया
मेरा वज़ूद.....!!

       x  x  x  x 

6 टिप्‍पणियां:

  1. कहीं मिल जाये
    अपने-आप को ढूँढता
    अपने-आप में खोया
    मेरा वज़ूद.....!!
    भावमय करते शब्‍द ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी भावाव्यक्ति , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    श्रावणी पर्व और रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस वजूद को ही तो जिन्दा रखना होता है ... जीने के लिए ...
    गहरी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं