9 अगस्त 2012

भजन



                   कान्हा ने वंशी बजायी,


              राधा रानी दौड़ी चली आई...

१.  कान्हा की मुरली जग से निराली,
             मीरा के भी मन को भायी...
                       राधा रानी...............!

२.  सारी गोपियाँ मुरली सुन रीझें,
              कान्हा ने की चतुराई...
                           राधा रानी.............!

३.  मीरा और राधा दोनों दीवानी,
                     तन-मन की सुध बिसराई...
                            राधा रानी.............!

     x   x   x   x 

4 टिप्‍पणियां: