4 जून 2012

मैं चाहती हूँ तुम्हें, तुम्हारे लिए...



एक बार पूछा था तुमने मुझसे
क्यों चाहती हूँ मैं तुम्हें इतना
पता नहीं क्या सुनना चाहते थे तुम
पर मैं तो बस इतना ही कह पाई
मैं चाहती हूँ तुम्हें, तुम्हारे लिए...!

क्या इतना काफी नहीं है
किसी को प्यार करने के लिए ?
चाहती हूँ, भर दूँ तुम्हारी झोली खुशियों से
ना रहे दुःख का एक कण भी तुम्हारे जीवन में
बस इतनी ही चाहना है मेरी
हाँ, मैं चाहती हूँ तुम्हें, तुम्हारे लिए.....!!

17 टिप्‍पणियां:

  1. किसी को उसीके लिए चाहना ही तो दुआ है

    उत्तर देंहटाएं
  2. चाहती हूँ, भर दूँ तुम्हारी झोली खुशियों से
    ना रहे दुःख का एक कण भी तुम्हारे जीवन में
    पावन भाव!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस इतनी ही चाहना है मेरी
    हाँ, मैं चाहती हूँ तुम्हें, तुम्हारे लिए.....!!iske aage to kuch kahne ki jarurat hi nhi hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. कविता की प्रत्येक पंक्ति में अत्यंत सुंदर भाव हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  5. खूबसूरत अहसास! बेहतरीन रचना है गायत्री जी...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन भाव
    यह प्रश्न भी कभी कभी भ्रमित कर देता है कि
    'क्यों चाहता है कोई किसी को'

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ... बेहतरीन ।
    कल 06/06/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' क्‍या क्‍या छूट गया ''

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्यों चाहती हूँ ......
    इस क्यों का उत्तर किसी के पास नहीं है
    और हो भी नहीं सकता
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बहुत सुंदर.....................

    पराकाष्ठा है ये प्रेम की.....

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  10. Vaise to kisi ko chahna hi Bahut hotahai ...Fir khushiyon ko bhar dene ki chahat to sone pe suhaga hai ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही बढ़िया।

    ----------------------
    कृपया अपने ब्लॉग पर फॉलो का ऑप्शन जोड़ लें-

    इसके लिए
    ब्लॉग के ले आउट मे जाइएगा उसमे Add gadget पर क्लिक कीजिएगा
    अब उसमे followers के सामने + पर क्लिक कर के सेव कर दीजिएगा।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर भाव संयोजन और सुंदर लेखन !

    उत्तर देंहटाएं
  13. मुक़द्दस से जज़्बात.... सुंदर रचना...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अनुपम भाव संयोजन से सजी उत्कृष्ट रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  15. पर मैं तो बस इतना ही कह पाई
    मैं चाहती हूँ तुम्हें, तुम्हारे लिए...!

    bahut sunder rachna, sach hai itna hi kaafi hai -chahna chahat ke liye.

    shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं