9 मई 2012

बेटियां...



ये पंक्तियाँ मैंने अपनी दीदी की बेटी के जन्म पर लिखी थीं और मुझे गर्व है कि मै खुद एक बेटी कि माँ हूँ।  ये पंक्तियाँ सिर्फ उन लोगों के लिए हैं जो बेटियों से प्यार करते हैं क्योंकि उन लोगों से तो जिन्दगी भी कोई आशा नहीं रखती, जो एक जिन्दगी कि क़द्र करना नहीं जानते। आशा करती हूँ कि आप लोगों को पसंद आयेंगी......

                          "प्यारी सी गुड़िया आई तेरे अंगना
                            छनकाएगी पायल, खनकाएगी कंगना
                            रखना तुम लाडो को दिल से लगा के
                            पूरा करेगी तुम्हारा हर सपना....."


                                                              **********

2 टिप्‍पणियां:

  1. मधुर भावना, सुन्दर! यदि वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा लेंगी तो पाठकों के लिये हिन्दी में कमेंट करना आसान हो जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं